UPSC

Sociology Notes pdf for UPSC in Hindi ! समाजशास्त्र के class notes

Sociology Notes pdf for UPSC in Hindi, sociology handwritten notes pdf नमस्कार विद्यार्थियों आज के इस लेख में हम आपके लिए यूपीएससी समाजशास्त्र handwritten notes pdf उपलब्ध करा रहे हैं जिसे आप लिंक के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं | जो विद्यार्थी UPSC, UPTET, CTET की तैयारी कर रहे हैं उनके लिए यह coaching notes काफी महत्वपूर्ण है |

समाजशास्त्र मनुष्य के समजिक जीवन, समूहों और व्यवहारों के बारें में जानकारी देने वाला विज्ञान है जिसे कई समाजशास्त्रियों ने अलग अलग परिभाषाओं से परिभाषित किया है, एक पृथक विज्ञान के रूप में समाजशास्त्र की चर्चा सर्वप्रथम फ़्रांसीसी विचारक अगस्त काम्ट ने अपनी रचना पाजिटिव-फिलान्सफी में 1838 ई. में किया था |

Sociology Notes pdf for UPSC

Sociology Notes pdf for UPSC in Hindi

विद्यार्थियों यह सभी handwritten notes upsc के विद्यार्थियों के लिए उपयोगी है जिसे coaching class के लिए मुफ्त आवंटित किया गया था |

Sociology pdf Notes Paper-I Chapters

  • समाजशास्त्र-विद्याशास्त्र
    1. यूरोप में आधुनिकता और सामाजिकपरिवर्तन तथा समाजशास्त्र के आविर्भाव
    2. समाजशास्त्र का विषय क्षेत्र एवं अन्य सामाजिक विज्ञानों से इसकी तुलना
    3. समाजशास्त्र एवं सामान्यबोध
  • समाजशास्त्र विज्ञान के रूप में
    1. विज्ञान वैज्ञानिक पद्धति एवं समीक्षा
    2. अनुसंधान क्रियाविधि के प्रमुख सैद्धांतिक तत्व
    3. प्रत्यक्षवाद एवं इसकी समीक्षा
    4. तथ्य मूल्य एवं उद्देश्यपरकता
    5. अप्रत्यक्षवादी क्रिया विधियां
  • अनुसन्धान पध्तियाँ एवं विशलेषण
    1. गुणात्मक एवं मात्रात्मक पद्धतियां
    2. तथ्य संग्रह की तकनीक
    3. परिवर्तित प्रतिचयन प्राग कल्पना विश्वसनीयता एवं वैधता
  • समाजशास्त्र चिन्तक
    1. कार्ल मार्क्स
    2. इमाइल दुर्खीम
    3. मैक्स बेबर
    4. टालकत परसन्स
    5. रॉबर्ट के. मर्टन
    6. जार्ज हरबर्ट मीड
  • अनुसंधान पद्धतियां एवं विशेषण
    1. सामाजिक स्तरीकरण एवं गतिशीलता
  • कार्य एवं आर्थिक जीवन
  • सत्ता का समाजशास्त्रीय सिद्धांत
  • धर्म एवं समाज
  • विवाह और परिवार
  • आधुनिक समाज में सामाजिक परिवर्तन

Sociology pdf Notes Paper-II Chapters

भारतीय समाज संरचना एवं परिवर्तन

  • भारतीय समाज का परिचय
    1. भारतीय विद्या (जी. एस. धुर्ये)
    2. संरचनात्मक प्रकार्यवाद (एम.एन. श्रीनिवास)
    3. मार्क्सवादी समाजशास्त्र (ए. आर. देसाई)
  • भारतीय समाज पर औपनिवेशिक शासन का प्रभाव
    1. भारतीय राष्ट्रवाद की सामाजिक पृष्ठभूमि
    2. भारतीय परंपरा का आधुनिकरण
    3. औपनिवेशिक काल के दौरान विरोध एवं आंदोलन
    4. सामाजिक सुधार

सामाजिक संरचना

  • ग्रामीण एवं कृषक सामाजिक संरचना
    1. भारतीय ग्राम का विचार एवं ग्राम अध्ययन
    2. कृषक सामाजिक संरचना- पट्टेदारी प्रणाली का विकास भूमि सुधार
  • जाति व्यवस्था
    1. जाति व्यवस्था के अध्ययन के परिप्रेक्ष्य (जी.एस. धुर्ये, एम.एन. श्रीनिवास, लुई ड्यूमा, आन्द्रे बेत्ते)
    2. जाति व्यवस्था के अभिलक्षण
    3. अस्पृश्यता रूप एव परिप्रेक्ष्य
  • भारत में जनजाति समुदाय
    1. परिभाषीय समस्याएँ
    2. भौगोलिक विस्तार
    3. औपनिवेशिक नीतियाँ एवं जनजातियां
    4. एकीकरण एवं स्वायत्तता के मुद्दे
  • भारत में सामाजिक वर्ग
    1. कृषि वर्ग संरचना
    2. औद्योगिक वर्ग संरचना
    3. भारत में मध्यम वर्ग
  • भारत में नातेदारी की व्यवस्था
    1. भारत में वंश एवं वंशानुक्रम
    2. नातेदारी व्यवस्थाओं के प्रकार
    3. भारत में परिवार एवं विवाह
    4. परिवार के घरेलू आयाम
    5. पितृतंत्र, हकदारी एवं श्रम का लिंग आधारित विभाजन
  • धर्म एवं समाज
    1. भारत में धार्मिक समुदाय
    2. धार्मिक अल्पसंख्यकों की समस्याएं

भारत में सामाजिक परिवर्तन

  • भारत में सामाजिक परिवर्तन की दृष्टियां
    1. विकास योजना एवं मिश्रित अर्थव्यवस्था का विकास
    2. संविधान विधि एवं सामाजिक परिवर्तन
    3. शिक्षा एवं सामाजिक परिवर्तन

Sociology Notes for upsc pdf Download

Sociology Class Notes pdf Paper 1 Click Here
Sociology notes for upsc in hindi pdf Paper 2 Click Here
Sociology Handwritten Notes pdf Click Here

About the author

Sarkaribooklet

1 Comment

Leave a Comment

You cannot copy content of this page